Sunday, June 16th, 2024

अन्‍नू कपूर ने 'हमारे बारह' फिल्‍म पर विवाद के बीच सरकार से मांगी सुरक्षा


मुंबई

बॉलीवुड के दिग्‍गज एक्‍टर अन्नू कपूर की फिल्म ‘हमारे बारह’ पर विवाद गहराया जा रहा है। एक ओर जहां फिल्‍म के कलाकार और क्रू को जान से मारने और रेप की धमकियां मिल रही हैं, वहीं महाराष्‍ट्र में अजीत पवार की राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) भी इसके विरोध में उतर आई है। NCP ने जहां राज्‍य सरकार से फिल्‍म की रिलीज पर बैन लगाने की अपील की है, वहीं इस बीच अन्‍नू कपूर ने भी महाराष्‍ट्र पुलिस और गृह मंत्रालय से सुरक्षा मांगी है।
कमल चंद्रा के डायरेक्‍शन में बनी फिल्‍म में अन्‍नू कपूर के अलावा पार्थ समथान, अश्‍व‍िनी कालसेकर और पारितोष तिवारी प्रमुख भूमिकाओं में हैं। हाल ही इस फिल्‍म का कान फिल्‍म फेस्‍ट‍िवल में प्रीमियर भी हुआ है, जहां इसकी खूब तारीफ हुई है। अन्नू कपूर ने अब कहा है, ‘इस फिल्म का टीजर देखकर ही हमें, हमारे आर्टिस्‍ट्स और डायरेक्टर को जान से मारने की धमकियां मिल रही हैं।'

अन्‍नू कपूर बोले- हमारी फिल्‍म किसी धर्म के ख‍िलाफ नहीं
अन्‍नू कपूर ने आगे कहा, 'हमें सोशल मीडिया पर, फोन पर धमकी दी जा रही है। लेकिन मैं अपनी फिल्‍म की टीम से यही कहूंगा कि डरने या घबराने की कोई जरूरत नहीं है। मैं आम जनता से भी अपील करता हूं कि वह फिल्म देखे बिना इस पर अपनी कोई राय ना बनाए। हमारी फिल्म महिला सशक्‍त‍िकरण की बात करती है। यह जनसंख्‍या नियंत्रण की बात करती है। हमारा उद्देश्य किसी भी धर्म का अपमान या उस पर दोहमत लगाना नहीं है।’

अन्‍नू कपूर से महाराष्‍ट्र सरकार और पुलिस से मांगी सुरक्षा
हालांकि, इसी के साथ अन्नू कपूर ने महाराष्ट्र पुलिस और गृह मंत्रालय से सुरक्षा भी मांगी है। उन्‍होंने कहा, 'मैं महाराष्ट्र पुलिस और गृह मंत्री और गृह मंत्रालय से निवेदन करता हूं कि हमारी फिल्म से जुड़े सभी कलाकारों को सुरक्षा दी जाए। हमारी फिल्म से जुड़े लोगों को सर तन से जुदा करने की धमकी मिल रही है।’

NCP ने विरोध में जारी की चिट्ठी, रिलीज पर रोक की मांग
दूसरी ओर, 'आजतक' की रिपोर्ट के मुताबिक, महाराष्‍ट्र के वाश‍िम में फिल्‍म का विरोध करते हुए NCP की ओर से चिट्ठी जारी की गई है। जिला अध्‍यक्ष के लेटर हेड पर मुस्‍ल‍िम समाज के लोगों ने जिला अध‍िकारी से यह मांग की है कि वह फिल्‍म की रिलीज पर रोक लगाएं और साथ ही फिल्‍म के डायरेक्‍टर पर कार्रवाई भी करें। विरोध कर रहे लोगों का कहना है कि यह फिल्‍म मुस्‍ल‍िम समुदाय की भावना को आहत करती है। यह एक समुदाय विशेष के अपमान के मंसूबे से बनी फिल्‍म है।

Source : Agency

आपकी राय

7 + 15 =

पाठको की राय