Hospital train lifeline express

कोरोना कहर कि Hospital Train लौटी बैरंग, अब क्या होगा ?

देश/दुनिया

कोरोना का कहर कि Hospital Train; नमस्कार दोस्तो दुनियाभर में कोरोना वायरस को लेकर दशहत के साये के बीच मुंबई से सीतामढ़ी पहुंची भारत की पहली हॉस्पीटल ट्रेन को इलाज की अनुमति नहीं मिल पाई। आपको बतादे कि, यह ट्रेन बैरंग लौटाई जा रही है। सीतामढ़ी के बाजपट्टी रेलवे स्टेशन पर यह ट्रेन चार दिनों से आकर खड़ी है।

Hospital train lifeline express

अब लालू यादव पर बनी फिल्म ‘लालटेन’ आ रही है बहुत जल्द…

नि:शुल्क अस्पताल सेवा

आपको बतादे कि रेलवे की 208 वीं लाइफलाइन एक्सप्रेस परियोजना के माध्यम से इंपेक्ट इंडिया फाउंडेशन के तहत यह चलंत नि:शुल्क अस्पताल सेवा शुरू की है। यह ट्रेन देश के कई हिस्सों से गुगरते हुए सीधे मुंबई से यहां पहुंची है। अबतक डेढ़ लाख मरीजों को निशुल्क शल्य चिकित्सा और 12 लाख से ज्यादा रोगियों का इलाज करने का दावा भी किया गया है। शायद आपको पता भी नही होगा कि 19 राज्यों के 138 जिलों से यह ट्रेन गुजरने वाली है।

हॉस्पीटल ट्रेन

जानकर खुशी होगी कि विश्व की पहली और भारत की एकमात्र परियोजना है। परियोजना की प्रोजेक्ट मैनेजर डॉ. जसवीर ने प्रेस को जारी बयान में सेवा के अचानक स्थगित होने की जानकारी दी। इस Hospital Train से बाजपट्टी में 17 मार्च से 5 अप्रैल तक मरीजों का इलाज किया जाना था। जिसको लेकर चरणबध तरीके से पिछले कई दिनों से जिला प्रशासन व लाइफ लाइन परियोजना के अफसरों द्वारा लगातार जिला व अनुमंडल कार्यालय में बैठकें की जा है।

इलाज से ऑपरेशन तक सब है फ्री

विश्व की पहली चलित रेल अस्पताल लाइफ लाइन एक्सप्रेस हॉस्पीटल ट्रेन में निशुल्क उपचार की सुविधा मिलनी है। सात सुसज्जित बोगी वाले चलित रेल अस्पताल में दो नवंबर तक विशेषज्ञ डॉक्टर स्तन एवं सर्वाइकल कैंसर, मुंह के कैंसर की जांच एवं उपचार के साथ-साथ प्लास्टिक सर्जरी एवं दांतों के रोगों का भी इलाज करेंगे। इसके साथ ही मोतियाबिंद, कटे-फटे होंठो, हड्डी से संबंधित विकारों, जलने से हुए विकारों से लेकर कान के ऑपरेशन तक की सुविधा मिलेगी।

डॉक्टरों की 40 सदस्यीय टीम होती है मौजुद

इस लाइफ लाइन एक्सप्रेस में प्रशिक्षित एवं विशेषज्ञ डॉक्टरों की 40 सदस्यीय टीम मरीजों का उपचार करती है। उपचार के समय भर्ती मरीजों और उनके साथ आए एक परिजन को सुबह-शाम का नाश्ता, दोपहर एवं रात्रि के भोजन की व्यवस्था भी निशुल्क सहायता रुप मे की जाती है। इसके अलावा लाइफ लाइन शिविर स्थल पर रियायती दरों पर भोजन एवं नाश्ते की उपलब्धता के लिए कैंटीन की भी व्यवस्था की जाएगी। कैंप स्थल, आवासीय परिसर आदि में शुद्ध पीने का पानी और साफ-सफाई की विशेष व्यवस्था होगी।

सबसे कम उम्र में क्रैक किया UPSC , देश के सबसे कम उम्र के IAS अफसर अंसार

Leave a Reply