सुशांत सिंह राजपूत की मौत का राज अब इस तरह खुलेगा बहुत हि जल्द

Sushant Singh Rajput Case: करिब 3 महिने बाद बॉलीवुड एक्‍टर Sushant Singh Rajput Murder Or Suicide का राज खुलने जा रहा है। ऐसे में फैंस, मिडिया और CBI सभी अपना पुरजोर काम कर रहे है। बस अब इंतजार है तो सिर्फ और सिर्फ AIIMS के डॉक्टरों की रिपोर्ट का जिससे आरोपी के सर से नकाब हट जाएगा और Sushant Singh Rajput को न्याय मिल जाएगा।

विसरा रिपोर्ट से होगा पर्दाफाश

सुशांत मामले में अब एम्स (AIIMS) के डॉक्टरों की रिपोर्ट का आना बाकी है जिसका बेसब्री से इंतजार है। डॉ. सुधीर गुप्ता के नेतृत्व में डॉक्टरों की टीम जल्द ही विसरा और पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर अपनी राय देगी उसके बाद ही इस मामले की दिशा तय होगी कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत हत्या है या आत्महत्या?

Sushant case में कहा है संशय

आपको इत्तेलाक कर दे कि सुशांत सिंह की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कूपर अस्पताल के डॉक्टरों ने साफ तौर पर लिखा है कि मौत फांसी के फंदे पर झुलने से हुई। कलीना एफ़एसएल की विसरा रिपोर्ट में भी कोई जहर नही मिला लेकिन इसमें मृत्यु का समय नही लिखा होने की वजह से रिपोर्ट पर कई तरह के सवाल उठ गया है।

मामले की जांच कर रही सीबीआई (CBI) ने सेकंड ओपीनियन के लिए एम्स के डॉक्टरों की सहायता मांगी है। 20 सितंबर को एम्स में मेडिकल बोर्ड की बैठक होनी है, जिसमें सीबीआई की सीएफएसएल की फाइंडिंग और सीबीआई की एसआईटी जांच रिपोर्ट की समीक्षा होगी।

इसके साथ ही विसरा रिपोर्ट ,पोस्टमार्टम रिपोर्ट और अब तक की जांच के अनुसार मेडिकल बोर्ड फाइनल ओपीनियन देगा। जिसके बाद सीबीआई की टीम लीगल ओपनियन लेगी और फिर उसके अनुसार जांच की दिशा तय होगी।

गौरतलब है कि सुशांत मौत मामले में जांच एजेंसी CBI अभी तक 20 के करीब लोगों से पूछताछ कर चुकी है। मुख्य आरोपी Rhea Chakraborty से अब तक चार बार पूछताछ की जा चुकी है।

किसी को कोई सबूत नही मिला

यही नहीं, सुशांत सिंह राजपूत के घर 2 बार रिक्रिएशन भी कर चुकी है लेकिन अभी तक कोई भी पुख्ता सुराग नही मिल पाया हैजिससे CBI को कई क्लु मिले। सीबीआई की एक टीम दिल्ली भी जा चुकी है। उधर, सुशांत मामले की अलग एंगल से जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय यानी ED को भी अभी तक मनी लॉन्ड्रिंग जांच में कुछ ठोस नही मिला है।

सिर्फ एक करोड़ का ट्रांजेक्शन संदेह के घेरे में है जिसे वेरिफाई किया जा रहा है| साथ ही नारकोटिक्‍स कंट्रोल ब्‍यूरो (NCB) भी ED को एक पत्र लिखकर अब तक पकड़े गए 18 आरोपियों की PMLA के तहत जांच करने का आग्रह कर सकती है|

Leave a Comment