Shivaratri Special: शिवरात्रि के दिन महादेव को कैसे करे प्रसन्न…

Shivaratri Special 2020 :हम आपको बताने वाले है, कि इस शिवरात्री के शुभ अवसर पर आप देवो के देव महादेव को किस तरह प्रसन्न कर सकते है| कहा जाता है कि भगवान शिव जी को महाकाल राजा  के नाम से भी जाना जाता  है| खास बात तो यह है, कि महादेव ने गंगा को अपने शीष पर धारण किया हुआ है। कहां जाता है कि अगर भोले नाथ का पूरे श्रावन मास में भाव से पूजा की जाए तो वो हमारी जिंदगी की सभी समस्याओं को समाप्त कर देते हैं।

Shivaratri Special 2020

इस दिन मनाई जाएगी महाशिवरात्री…  

बतादे कि आने वाली 21 फरवरी को शिवरात्रि का पर्व मनाया जाएगा। इस पर्व को हिन्दू धर्म में बड़े ही उल्लास के साथ मनाया जाता है| भगवान शिव जी को प्रसन्न करने के लिए श्रद्धालु रुद्राभिषेक भी करते है| शिवरात्री के अगले दिन यानि कि 22 फरवरी को वैष्णवों द्वारा उदियात (सूर्योदय के समय) में चतुर्दशी तिथि के चलते व्रत परायण करना श्रेयस्कर है। शिव खप्पर पूजन 23 फरवरी अमावस्या को होगा। शिवरात्रि पर भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए भगवान का रुद्राभिषेक किया जाता है। खास बात यह भी है कि शिवरात्रि के दिन सुबह नहा धोकर मंदिर जाकर ओम नम: शिवाय मंत्र का जाप करना चाहिए।

इस तरह करे भगवान शिव जी की पूजा

ओम नम: शिवाय मंत्र का जाप के बाद शिवलिंग पर शहद, पानी और दूध के मिश्रण से भोले शंकर को स्नान कराना चाहिए। इसके बाद बेल पत्र, धतूरा, फल और फूल भगवान शिव को अर्पित करने चाहिए। धूप और दीप जलाकर भगवान शिव की आरती करनी चाहिए। कहा जाता है कि भोले शिव को बेर चढ़ाना भी प्रसन्न किया जा सकता है| शिव महापुराण में कहा गया है कि इन छह द्रव्यों, दूध, योगर्ट, शहद,घी, गुड़ और पानी से भगवान शिव का रुद्राभिषेक करने से भगवान प्रसन्न होते हैं।

शिवरात्रि का शुभ मुहूर्त

21 तारीख को शाम को 5 बजकर 20 मिनट से 22 फरवरी, शनिवार को शाम सात बजकर 2 मिनट तक रहेगा

वैष्णव संप्रदाय उदियात अर्थात् जो सूर्योदय के समय तिथि हो उसे मानते हैं। इसलिए इस साल महाशिवरात्रि 21 फरवरी को मनाई जाएगी।

जल से रुद्राभिषेक करने से शुद्धी

गु़ड़ से रुद्राभिषेक करने से खुशियां

घी से रुद्राभिषेक करने से जीत

शहद से रुद्राभिषेक करने से मीठी वाणी

योगर्ट से रुद्राभिषेक करने से समृद्धि

एक भजन महादेव के भक्तों के लिए

यह भी पड़े : क्या है? खाटूश्याम के दरबार का जादू, आखिर क्यों जाते है उनके दर्शन के लिए इतने श्रद्धालु,जाने पूरा इतिहास…

Leave a Comment