Navratri Special: Navratri starts from September 29, know auspicious time,

Navratri Special: 29 सितम्बर से नवरात्रि शुरु, जाने शुभ मुहुर्त

धर्म

नमस्कार दोस्तो, बतादे कि इस बार 29 सितम्बर से शारदीय नवरात्रि प्रारम्भ (Navratri time) हो रही है और इस बार पूरे नौ दिन मां की उपासना की जाएगी. वहीं 8 अक्टूबर को धूमधाम के साथ विजय दशमी यानी दशहरा मनाया जाएगा

Navratri time

जैसा कि आप जानते है कि नवरात्रि 29 सितम्बर से शुरु हो रही है। नवरात्रि के इस त्योहार मे सभी भक्त मातारानी कि भक्ति मे रंग जाते है. नवरात्रि में नौ दिन तक मातारानी के दरबार मे भक्तो की भारी भिड लगी रहती है । नवरात्रि मे नो दिनो तक मातारानी का भव्य श्रग्नार किया जाता हैं। नवरात्रि मै नो दिनो तक माता जी कि पूजा , पाठ , हवन , आरती की जाती है।नवरात्रि मे नो दिनो तक माता के सभी अलग जगह पर गरबो का आयोजन किया जाता है  । नवरात्रि के नौ दिनों में मातारानी की पूजा करें और प्रेम से दान दे। 

Navratri special:  इस नवरात्रि व्रत रखने वाले रखे इन खास बातो का ध्यान

नवरात्रि (Navratri time) मे व्रत रखने वाले इस बात का ध्यान रखे कि वे जमीन पर सोऐ तथा नो दिनो तक व्रत को करने वाले को फलहार तथा व्रत मे खाने वाली चिजे ही खाना चाहिए  ।व्रत करने वाले को मातारानी को नो दिनो तक भोग लगाना चाहिये ।

Navratri special: शुभ मुहूर्त

नवरात्रि (Navratri time) मे मातारानी का आर्शिवाद पाने के लिये कलश पुजन किया जायेगा। इसके लिये शुभ मुहुर्त से कलश कि स्थापना की जायेगी  । जानकारी के मुताबिक इसके लिये शुभ मुहुर्त 29 सितम्बर को सुबह 6:04 से शुरु होकर मान नक्षत्र मे रात्रि 10:01 तक रहेगा ।

Navratri special: शारदीय नवरात्रि

नवरात्रि मातारानी कि नो शक्तियो के मिलन का पर्व है। नवरात्रि हिंदु पर्व है। नवरात्रि के नो दिनो के अंतर्गत माता के नो रुपो की पूजा कि जाति है तथा दशवे दिन दशहरे के रुप मे रावण का दहन करके मनाया जाता है ।इन नो देवियो कि पूजा कि जाति है नवरात्रि मे -:

  • शेलपुत्री
  • ब्र्म्हाचारिणी
  • चंद्रघ्नटा
  • कुश्मांडा
  • स्कंदमाता
  • कात्याय्नी
  • कालरात्रि
  • महागोरी
  • सिद्दिदात्री

नवरात्र शुरू होने से पहले ही कुछ विशेष सामग्री घर ले आएं. आइए जानते हैं नवरात्र के दौरान आपको किन-किन चीजों की जरूरत पड़ेगी

देवी पूजन की विशेष सामग्री

– माता की मूर्ति या तस्वीर की स्थापना के लिए चौकी

मां दुर्गा की तस्वीर या मूर्ति

– चौकी पर बिछाने के लिए लाल या पीला कपड़ा

– मां पर चढ़ाने के लिए लाल चुनरी या साड़ी

– नौ दिन पाठ के लिए ‘दुर्गासप्तशती’ किताब

– कलश

– ताजा आम के पत्ते धुले हुए

– फूल माला या फूल

– एक जटा वाला नारियल

– पान

– सुपारी

– इलायची

– लौंग

– कपूर

– रोली, सिंदूर

– मौली (कलावा)

– चावल

अखंड ज्योति जलाने के लिए

– पीतल दीप या मिट्टी का साफ दीपक.

– घी.

– लंबी बत्ती के लिए रुई या बत्ती.

– दीपक पर लगाने के लिए रोली या सिंदूर.

– घी में डालने और क के नीचे रखने के लिए चावल.

Navratri time

नौ दिन के लिए हवन सामग्री

– हवन कुंड

– आम की लकड़ी

– हवन कुंड पर लगाने के लिए रोली या सिंदूर

– काले तिल

– चावल        

– जौ (जवा)

– धूप

– चीनी

– पांच मेवा.

– घी

– लोबान

– गुग्ल

– लौंग का जौड़ा

– कमल गट्टा

– सुपारी

– कपूर

– हवन में चढ़ाने के लिए प्रसाद की मिठाई और नवमी को हलवा-पूरी

– आचमन के लिए शुद्ध जल

कलश स्थापना के लिए

– एक कलश.

– कलश और नारियल में बांधने के लिए मौली (कलावा).

– 5, 7 या 11 आम के पत्ते धुले हुए.

– कलश पर स्वास्तिक बनाने के लिए रोली.

– कलश में भरने के लिए शुद्ध जल और गंगा जल.

– जल में डालने के लिए केसर और जायफल.

– जल में डालने के लिए सिक्का.

– कलश के नीचे रखने चावल या गेहूं.

Navratri time
जवारे बोने के लिए

– मिट्टी का बर्तन.

– साफ मिट्टी (बगीचे की या गड्डा खोदकर मिट्टी लाएं).

– जवारे बोने के लिए जौ या गेहूं

– मिट्टी पर छिड़कने के लिए साफ जल.

– मिट्टी के बर्तन पर बांधने के लिए मौली (कलावा).

– लाल चुनरी

– चूड़ी

– बिछिया

– इत्र

– सिंदूर

– महावर

– बिंद्दी

– मेहंदी

– काजल

– चोटी

– गले के लिए माला या मंगल सूत्र

– पायल

– नेलपॉलिश

– लिपस्टिक (लाली)

– चोटी में लगाने वाला रिबन

– कान की बाली.

देवी पूजन में इन बातों का रखें ध्यान

– तुलसी पत्ती न चढ़ाएं.

– माता की तस्वीर या मूर्ति में शेर दहाड़ता हुआ नहीं होना चाहिए.

मां दुर्गा की तस्वीर या मूर्ति

– चौकी पर बिछाने के लिए लाल या पीला कपड़ा

– मां पर चढ़ाने के लिए लाल चुनरी या साड़ी

– नौ दिन पाठ के लिए ‘दुर्गासप्तशती’ किताब

– कलश

– ताजा आम के पत्ते धुले हुए

– फूल माला या फूल

– एक जटा वाला नारियल

– पान

– सुपारी

– इलायची

– लौंग

– कपूर

– रोली, सिंदूर

– मौली (कलावा)

– चावल

Navratri time
व्रत में लें हेल्दी और टेस्टी खाना…

बात जब व्रत के खाने की हो तो स्टार्च, कार्बोहाइड्रेट और तुरंत एनर्जी देनेवाले फूड्स में साबुदाने का नाम सबसे ऊपर आता है। साबुदाना खिचड़ी, साबुदाना चिप्स और साबुदाना खीर के रूप में आप साबुदाने को अपने व्रत में खा सकते हैं।

पीएम मोदी ने अपने UN के भाषण में किया याद वह तमिल कवि कौन..? जाने सच

Leave a Reply