क्या आपको पता है ? कि कोर्ट में जज के पास घंटी की जगह लकड़ी का हथौड़ा (Gavel) क्यों होता है

कोर्ट और लकड़ी का हथौड़ा: आपने असल में जिंदगी का तो पता नहीं लेकिन फिल्मी दुनिया में तो जरूर देखा होगा कि एक कोर्ट होता है जहां जज साहब लकड़ी का हथौड़ा (Gavel) अपने पास रखते हैं और ज्यादा शोर होने पर ऑर्डर-ऑर्डर करते हैं और सब शांत हो जाते हैं, लेकिन क्या आपने कभी ये सोचा है कि कोर्ट में जज के पास लकड़ी का हथौड़ा (Gavel) क्यों होता है घंटी क्यों नहीं होती? आज हम आपको बताते हैं ऐसा क्यों होता है।

Gavel

इस हथौड़े की उत्पत्ति कहां हुई थी ?

विज्ञान, टेक्नोलॉजी, औषधि, इतिहास, राजनीति और विधि विषयों के जानकार अश्वनी शर्मा (Aswani Sharma) इस बारे में बताते हैं कि तकनीकी भाषा मे इस लकड़ी के हथौड़े को गैवेल (Gavel) कहा जाता है। गैवेल का उपयोग भारत मे ब्रिटिशकाल के समय होता आ रहा था, लेकिन अब शायद ही कोई कोर्ट इसका इस्तेमाल करती है। इस हथौड़े (Gavel) की उत्पत्ति मध्यकालीन इंग्लैंड में हुई थी। तब जब वहां हमेशा अदालतों में मकान मालिकों और किरायेदारों के बीच काफी विवाद हुआ करता था। पूरे कोर्ट रूम में शोर-शराबा होता था। कोर्ट रूम को शांत और व्यवस्थित करने के लिए जज लकड़ी की मेज को पीटते थे। धीरे-धीरे इसका स्थान एक लकड़ी की हथौड़ी ने ले लिया।

हथौड़ा अदालत में न्यायिक शक्ति का …

भारतीय अदालतों में हथौड़ा (Gavel) का अब न के बराबर उपयोग होता है, लेकिन विदेशों की अदालतों में गैवेल का उपयोग आज भी होता है। ऐसा माना जाता है कि गैवेल अदालत में न्यायिक शक्ति का प्रतिनिधित्व करता है। आपने नीलामी घरों में भी देखा होगा नीलामी की आखिरी बोली पर हथौड़े से बोली को अंतिम करार दिया जाता है। यहां भी हथौड़ा (Gavel) शक्ति का प्रतिनिधित्व करता है।

 हथौड़ा निर्माण और सुधार का प्रतीक है

अश्वनी शर्मा इस बारे में बताते हैं कि मेरा मानना है कि हथौड़ा निर्माण और सुधार का प्रतीक है। इसलिए आज भी इसका उपयोग किया जाता है और न्यायालय के पहचान चिन्ह के रूप में इसका उपयोग किया जाता है। न्यायालयों की स्थापना सजा देने या अपराधी को समाप्त करने के लिए नहीं, बल्कि अपराधी प्रवृत्ति के व्यक्ति को सुधारने एवं समाजिक व्यवस्था को सुधारने के लिए की गई है। विनाश के लिए भारी हथौड़ों का उपयोग किया जाता है जबकि निर्माण और मरम्मत के लिए हल्के व छोटे हथौड़ों का उपयोग किया जाता है। कोर्ट में जज की डायस पर रखा हथौड़ा निर्माण और सुधार का प्रतीक होता है।

यह भी पढे: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निजी Secretary हार्दिक सतीशचंद्र शाह बने

Leave a Comment