Citizenship Law Bill

नागरिकता कानून बिल (CAB) के विरोध के चलते, अमित शाह का विपक्ष पर हमला

राजनीति

नमस्कार दोस्तो, बतादे कि कुछ दिन पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने नागरिक कानून बिल (CAB) को जारी किया था। जिससे विपक्ष का कहना है। जिससे पूरे देश में बवाल मचा रहा है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी केंद्र का रुख स्पष्ट किया है। जामिया के बाद सीलमपुर में शुरू हुई हिंसा के बीच अमित शाह ने कहा कि पूरा विपक्ष देश की जनता को अपनी ओर खिच रहा है।  

विधेयक में ऐसा कोई प्रावधान नहीं….

आये दिन विपक्ष हर किसी को अपना निशाना साधते रहते है। इधर गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट करते हुए लिखा कि

 केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह: मैं कांग्रेस पार्टी से कहना चाहता हूं कि यह नेहरू-लियाकत समझौते का हिस्सा था, लेकिन 70 साल से लागू नहीं हुआ क्योंकि आप वोट बैंक बनाना चाहते थे। हमारी सरकार ने संधि को लागू किया है और लाखों और करोड़ों लोगों को नागरिकता दी है। इससे पहले गृह मंत्रालय के सूत्रों ने भी कहा कि नागरिकता संशोधन कानून का किसी विदेशी को बाहर भेजे जाने से कोई नाता नहीं है। किसी भी विदेशी को वापस भेजने के लिए पहले से तय प्रक्रिया को ही लागू किया जाएगा। यह कानून किसी भारतीय पर लागू नहीं होता। 

कमलनाथ सरकार का एक साल पूरा, कितने वादे पुरे और कितने आज भी अधुरे?

जामिया विवाद की रिपोर्ट में…..

मानव संसाधन मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि 15 दिसंबर को जामिया में हुई हिंसा की रिपोर्ट उन्हें मिली है। रिपोर्ट में कहा गया है कि विश्वविद्यालय की कार्यकारी समिति ने प्रस्ताव पास किया, जिसमें न्यायिक जांच की मांग की गई है। हालांकि हमें अभी तक औपचारिक निवेदन नहीं मिला है। 

गृह मंत्रालय के सूत्रो का कहना है कि….

गृह मंत्रालय (MHA) के सूत्रों का कहना है: कि किसी विदेशी के निर्वासन से कोई लेना-देना नहीं है। किसी भी विदेशी की सामान्य निर्गमन प्रक्रिया पहले से ही मौजूद कृत्यों के अनुसार लागू होगी। अधिनियम किसी भी भारतीय के लिए लागू नहीं होता है।

“Rape In India” पर फंसे राहुल, Jharkhand में चुनाव आयोग ने मांगी रिपोर्ट

Leave a Reply