Corona Symptoms : बाहर लक्षण नहीं फिर भी कोरोना पॉजिटिव

Coronavirus Symptoms : कोरोना समाज का हिस्सा बनते जा रहा है। यह अब लम्बे समय तक मानव समाज के साथ रहेगा। लोगों के अंदर वायरस का डेरा है, लेकिन बाहर कोई लक्षण नहीं दिख रहे हैं। न सर्दी, न खांसी और न ही बुखार, फिर भी कई लोग कोरोना पॉजिटिव निकल रहे हैं।

Coronavirus Symptoms

इंदौर में अब जो नए केस सामने आ रहे हैं, उनमें 70 फीसदी मामले ऐसे ही हैं। यह सामूहिक रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने का संकेत माना जा रहा है। दूसरी तरफ विशेषज्ञ सतर्क भी कर रहे हैं कि हमें न लापरवाह बनना है, न ही अभी किसी तरह की ढील देने की जरूरत है।  

100 में से इतने केस पॉजिटिव 

शुरुआती दौर में सैंपल की जांच होने पर 100 में से 30 केस पॉजिटिव निकलते थे, लेकिन फिलहाल यह दर छह फीसदी पर आ चुकी है। कई संक्रमित ऐसे हैं जिनमें कोरोना के लक्षण नजर नहीं आ रहे, भले ही उनके परिवार में कोई और पॉजिटिव आया हो। शहर के शिवालिक कालिंदी मिड टाउन में रहने वाले निजी स्कूल के प्राचार्य मनीष सक्सेना की प्रोफेसर पत्नी प्रीति सक्सेना कभी बाहर नहीं निकलीं, लेकिन वे जांच में पॉजिटिव पाई गईं, जबकि उनके पति और दोनों बच्चे निगेटिव आए। कोविड अस्पताल में भर्ती रहकर अब दो रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद प्रोफेसर सक्सेना के अलावा उनके पति व बच्चे क्वारंटाइन पीरियड पूरा कर हाल ही में घर आ चुके हैं, लेकिन पूरा परिवार हतप्रभ है कि यह सब हुआ कैसे?

कई लोगों में वायरस होकर चला जा रहा है। उनकी इम्युनिटी बेहतर होने से उन्हें लक्षण भी नजर नहीं आ रहे हैं। अब शहर में अधिकांश ऐसे ही केस आ रहे हैं। जिन्हें कोई लक्षण नहीं हैं, वे पॉजिटिव निकल रहे हैं। ऐसे करीब 70 फीसदी केस हैं। ऐसे में माना जा सकता है कि लोगों में हर्ड इम्युनिटी डेवलप हो रही है। जैसे-जैसे यह कम्युनिटी में पहुंचेगा तो लोगों के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाएगी और उनका शरीर खुद वायरस से लड़ने के लिए तैयार हो जाएगा। -डॉ. प्रवीण जड़िया, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी

बिना लक्षण पॉजिटिव निकलना बीमारी का एक

यह निश्चित तौर पर नहीं कहा जा सकता कि लोगों में सामूहिक प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो रही है, लेकिन यह सही है कि कई मरीज ऐसे हैं जो बिना लक्षण के पॉजिटिव आ रहे हैं। अब मुसीबत यह है कि ऐसे लोगों की पहचान कैसे होगी कि वे मरीज हैं या नहीं? इसका एक ही तरीका है कि कांटैक्ट ट्रेसिंग के जरिए पता लगाया जाए। कांटैक्ट ट्रेसिंग में लोग खुद जागरूक होकर बताएं और जांच कराएं कि वे किसी पॉजिटिव के संपर्क में रहे हैं। बिना लक्षण पॉजिटिव निकलना बीमारी का एक बिहेवियर कह सकते हैं।

शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा ने ‘नौकरानी’ को किया KISS, Video हो रहा वायरल

Leave a Comment