Corona virus

Corona Virus: चीन मे कोरोना से राहत मगर इटली मे दुनिया कि सबसे ज्यादा मौते

देश/दुनिया

Corona virus: चीन के साथ दुनिया भर मे कोरोना का कहर रुकने का नाम नही ले रहा है। और उधार इटली में कोरोना वायरस संक्रमण की चपेट में आकर अब तक सबसे ज्याद कुल 3,405 लोगों की मौत हो चुकी है। आपको बतादे कि COVID- 19 की वजह से होने वाली मौतों का यह आंकड़ा किसी भी अन्य देश से ज़्यादा है|

Corona virus

आपको बतादे कि गुरुवार यानि कि 19 मार्च को इटली में मौत के 427 नए मामले दर्ज किए गए जिससे मौतों का कुल आंकड़ा अचानक से एकदम से बढ़ गया।

चीन में कोरोना की वजह से होने वाली कुल मौतों

चीन दैनिक कार्य और सरकारी काम काज सभी ठप पडे है और चीन में कोरोना की वजह से होने वाली कुल मौतों का आधिकारिक आंकड़ा 3,245 है। हालांकि बतादे कि इस आंकड़े की विश्वसनीयता पर भी सवाल उठाए जा रहे हैं।

सबसे कम उम्र में क्रैक किया UPSC , देश के सबसे कम उम्र के IAS अफसर अंसार

देखा जाए तो चीन में संक्रमण के कुल मामलों की संख्या (81,000) अब भी इटली से लगभग 2 गुना ज़्यादा (41,035)  है पर फिर भी मौत के मामले मे इटली चीन से आगे है।

इटली में अब तक कोरोना से संक्रमित मामले

चौंकाने वाली खबर तो यह है कि इटली में कोरोना की वजह से जितने लोगों की जान गई है उनमें से 67 प्रतिशत लोगों की मौत उत्तरी लोंबार्डी इलाक़े में हुई हैं। इटली के हर 100 मामलों में से 60-70 मामले लोंबार्डी इलाक़े से सामने आ रहे हैं।

इटली मे कोरोना का कहर थम नही रहा लगातार मौतें

इटली के प्रधानमंत्री गुज़ेपे कॉन्टे का कहना है कि स्वास्थ्य तंत्र को बचाए रखने के लिए ऐसे क़दम उठाना ज़रूरी है।

जनता से लॉकडाउन के नियमों का सख़्ती से पालन करने के लिए कहा जा रहा है।

नियम इतने सख़्त हैं कि इमरजेंसी की स्थिति में ही लोगों को बाहर निकलने की इजाज़त है और वो भी प्रमाण के साथ। अगर कोई झूठ बोलता पाया गया तो उसे जेल की सज़ा भी हो सकती है।

हालात इतने ख़राब हैं कि लोग बाल्कनी और छत से तालियां बजाकर और संगीत के ज़रिए एक-दूसरे की हौसला अफ़जाई कर रहे हैं।

हालांकि इन सारी कोशिशों के बावजूद वहां मौतों और नए मामलों का आंकड़ा थमने का नाम नहीं ले रहा है।

लगातार बढ़ते संक्रमण और मौतों के मामलों से जूझते इटली की हालत किसी बेबस देश जैसी हो गई है। मरीज़ इस कदर बढ़ते जा रहे हैं कि अस्पतालों में बिस्तर कम पड़ गए हैं और डॉक्टरों के सामने ये दुविधा है कि वो किसका इलाज करें और किसे छोड़ें।

कोरोना कहर कि Hospital Train लौटी बैरंग, अब क्या होगा ?

 

Leave a Reply